Home » Poet Rahat Indori Biography 2020

Poet Rahat Indori Biography 2020

  • by
Poet Rahat Indori Biography 2020

Poet Rahat Indori Biography 2020, कवि राहत इंदौरी की जीवनी

Poet Rahat Indori Biography: दोस्तों इस साल बहुत सारे फेमस लोग चाहे वो बॉलीवुड के एक्टर ऋषि कपूर ,सुशांत सिंह राजपूत या इरफ़ान खान हो इस कोरोना काल में हमारे बिच नहीं रहे। 

लेकिन दोस्तों आज मैं किसी बॉलीवुड स्टार्स के बारे में बात नहीं कर रहा बल्कि उर्दू कवि रहत इंदौरी जी के बारे में बताने जा रहा हु। हालाँकि कुछ समय के लिए इनका सम्बन्ध बॉलीवुड से भी था। 

 सुशांत सिंह राजपूत की जीवनी.

 

इंदौरी जी कोरोना पॉजिटिव थे। 

 

 प्रसिद्ध उर्दू कवि राहत इंदौरी, जिनकी शक्तिशाली और आकर्षक कविता से हॉल भरा हुआ रहता था और युवा और बूढ़े के साथ जुड़े हुए थे। 

 प्रख्यात उर्दू कवि और गीतकार राहत इंदोरी का मंगलवार दोपहर मध्य प्रदेश के इंदौर में निधन हो गया। उनकी उम्र 70 वर्ष की थी।

COVID-19 का टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद उनको इंदौर के श्री अरबिंदो अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनके ट्विटर अकाउंट में बताया गया की उन्होंने शाम 5 बजे अंतिम सांस ली।

इसके एक दिन पहले उनके ट्विटर अकाउंट के एक ट्वीट में कहा गया था, “शुरुआती लक्षणों के बाद, मेरा कोरोनावायरस का टेस्ट हुआ और टेस्ट पॉजिटिव आया है। और मुझे अरबिंदो अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कृपया मेरे लिए प्रार्थना करें कि मैं इसे जल्द से जल्द हरा दूं। ”

CORONAVIRUS Covid-19.

 

NRC और  CAA में उनकी भूमिका 

कविता में 50 साल के करियर के साथ, उर्दू के महान विद्वान राहत इंदौरी, देश के सबसे बड़े मुशायरा (कविता संगोष्ठी) सितारों में से एक थे और किसी ने निडर होकर एक कुदाल को एक कुदाल कहा

रहमत इंदोरी ने अपनी कविता में राष्ट्र के मिजाज का अनुवाद किया, जो कि भावपूर्ण, प्रत्यक्ष और राजनीतिक था।

धार्मिक विभाजन और भाषावाद पर हमला करते हुए, इंदोरी ने प्रसिद्ध रूप से लिखा, “सभी का खून शमिल है उस मिटटी में , किसी के बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है”। 

 नागरिकता संशोधन अधिनियम CAA और NRC  के खिलाफ आंदोलन करने वाले प्रदर्शनकारियों के लिए नारा बन गए थे.

विरोधी CAA विरोध प्रदर्शन के दौरान पोस्टर और बैनर पर लाइनों का इस्तेमाल किया गया था, जिससे उन्हें लगभग पंथ का दर्जा मिला।

राहत इंदौरी वह दुर्लभ कवि थे, जो युवा पीढ़ी के साथ आसानी से जुड़े थे।

 

Coronavirus Unlock 3 Guidelines.

Poet Rahat Indori Biography, Rahat Indori Shayari poet.

 

राहत इंदौरी की नई कविता

इस साल की शुरुआत में, उनकी कविता “बुलाती है  मगर जाने का नहीं” सोशल मीडिया पर वायरल हुई, जिसने उन्हें युवाओं के बीच सनसनी बना दिया।

कविता की शुरुआती पंक्तियों का उपयोग करते हुए मेमों ने वेलेंटाइन डे के दौरान सोशल मीडिया पर बाढ़ ला दी थी ।

 

सर्धांजलि कुछ फेमस लोगो द्वारा 

 

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, उन्होंने कहा था कि “देश में जो कुछ भी हो रहा है वह अच्छा नहीं है।”

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक दोहे के साथ इंदौरी साहब को विदाई दी –  “अब न मैं हूँ न बांकी ज़माने मेरे , भी सहरों में मशहूर है फ़साने मेरे ”  

इतिहासकार और लेखक राणा सफ़वी ने उनकी मृत्यु को “एक निडर आवाज़ और कविता की दुनिया के लिए बहुत बड़ा नुकसान” करार दिया।

साथी कवि गुलज़ार की दृष्टि में इंदौरी एक मुशायरे की आत्मा थे।

गीतकार-लेखक जावेद अख्तर ने समकालीन उर्दू शायरी और समाज में इंदौरी की मौत को “एक अपूरणीय क्षति” कहा।

गीतकार वरुण ग्रोवर ने उन्हें “भारतीय साहित्य जगत का रॉकस्टार” कहा और “मुशायरा” परंपरा के राजकुमार।

 

इंदौरी का बॉलीवुड कनेक्शन 

 

इन्दोरी बॉलीवुड से भी जुड़े रहे कुछ समय तक। बॉलीवुड में भी बहुत से हिट गाने लिखे उन्होंने। 

Famous Poet Rahat Indori Biography, Rahat indori ghazal

जिनमें “करिब” से “चोरी चोरी जब नजरे  मिली”“घातक ” से “कोई जाए तो ले आये ““इश्क” से नींद चुराई मेरी  शामिल हैं।

लेकिन वो फिल्मो में जायदा एक्टिव नहीं रहे। 

मुशायरों में उन्हें सुनने के लिए लोग सुबह 3 बजे तक बैठे रहते थे। अगर वह अपनी कविता थोड़ी जल्दी पढ़ लेते तो हॉल खाली हो जाते

 

रहत इंदौरी के बारे में। 

राहत कुरैशी, जिसे बाद में राहत इंदौरी के नाम से जाना जाता है, का जन्म 1 जनवरी 1950 को इंदौर में रफतुल्लाह कुरैशी, कपड़ा मिल मजदूर और उनकी पत्नी मकबूल उन निसा बेगम के यहाँ हुआ था। 

वह उनके चौथा बच्चे थे। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा नूतन स्कूल इंदौर से की जहाँ से उन्होंने अपनी हायर सेकंडरी पूरी की। 

उन्होंने 1973 में इस्लामिया करीमिया कॉलेज, से स्नातक की पढ़ाई पूरी की और 1975 में बरकतउल्ला विश्वविद्यालय भोपाल (मध्य प्रदेश) से उर्दू साहित्य में एम.ए.  MA की परीक्षा उत्तीर्ण की और 1985 में भोज विश्वविद्यालय से उर्दू साहित्य में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की, जिसका शीर्षक था “उर्दू मुख्य मुशायरा”।

IK कॉलेज में उर्दू साहित्य पढ़ाने के दौरान, वे ” मुशायरों ” में भी व्यस्त हो गए और पूरे भारत और विदेशों से निमंत्रण प्राप्त करने लगे। 

 

Famous Poet Rahat Indori Books.

रहत इंदौरी ने कुछ किताबें भी लिखी है – 

  • मेरे बाद 
  • धुप बहुत है
  • मौजूद  
  • नाराज 

 

इसे पढ़ने के लिए क्लीक करें Best 5 Business Books.

Invitation 

इंदौरी को द कपिल शर्मा शो में दो बार अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया था। सबसे पहले, 1 जुलाई 2017 को कुमार विश्वास और शबीना आजमी जी के साथ सीजन 1 में। 

 और दूसरी बार अशोक चक्रधर के साथ 21 जुलाई 2019 सीजन 2 के एपिसोड में  शो “वाह क्या बात है” में भी इंदौरी को आमंत्रित किया गया था! वाह! क्या बात है! SAB TV पर।

 

निष्कर्ष 

भले ही राहत इंदौरी साहब अब इस दुनिया में नहीं रहे लेकिन उनकी द्वारा लिखी गयी कबिताएं हमेशा हमारे जहन रहेगी। उनकी वो वेबाक निडर बोल जो इंकलाब ला सकती है हमेशा उनकी कविताओं का इस्तेमाल किया जायेगा। 

Read more 

Read more 

Water Pollution In Hindi,

Pollution Kya Hai,

Air Pollution In Hindi,

Fundamental Rights Kya Hai,

Preamble of India In Hindi,

भारतीय संविधान की प्रस्तावना,

15+ Best Biography Movies,

आशा करता हु आपको मेरा ये पोस्ट Poet Rahat Indori Biography 2020 पसंद आया होगा कमेंट जरूर करे।

Share

Leave a Reply