Essay on Diwali in Hindi | दिवाली पर निबंध

Spread the love

Diwali 2022 | Diwali Ya Dipawali kyo Manayi jati Hai | दीवाली या दीपावली क्यों मनाते है | Diwali 2022 in hindi | Diwali Festival Essay

Essay on Diwali in Hindi: हेलो दस्तो आज मै आपके लिए दिवाली के शुभ अवसर पर Essay on Diwali in Hindi | दिवाली पर निबंध इस वर्ष 2021 की समूर्ण जानकारी देने जा रहा हु। आशा है आपको पसंद आएगी।  
दिवाली जिसे हम दीपावली के रूप में भी जानते है , दीपावली का अर्थ है रौशनी की एक कतार। इस दिन को अच्छाई की बुराई पर जीत का प्रतिक मना जाता है। 
भगवान राम द्वारा रावण को मारने और सीता को लंका के कैद से छुड़ाने के 20 दिन बाद दीवाली मनाई जाती है।
दिवाली 14 साल के वनवास के बाद भगवान राम के अयोध्या लौटने का प्रतीक माना जाता है। भगवान राम, सीता और लक्ष्मण के स्वागत के लिए पूरा अयोध्या वासियों ने अपने राजा के स्वागत में घी के दिए जलाये। 
यह पांच दिवसीय त्योहार धनतेरस (Dhanteras) से शुरू होता है, जो सौभाग्य, धन और समृद्धि लेन के लिए मनाया जाता है।  धनतेरस के बाद छोटी दिवाली, दिवाली, गोवर्धन पूजा और अंत में, भाई दूज इस पांच दिवसीय त्योहार के अंत का प्रतीक है।
Diwali Date in 2022-दिवाली तिथि 2022
Thursday 4 November 2022 – 4 नवंबर 2022

आईये अब हम विस्तार से जानते है : Essay on Diwali in Hindi

इसे भी पढ़े – 
Dream11 kya hai ?
Good Worker (Pravasi Rojgar) Kya Hai?
Sonu Sood Biography
Hurun India Rich List
Hurun Global Rich List And Their Net Worth.

दिवाली के पांच दिन / Essay on Diwali

धनतेरस – Dhanteras
धनतेरस से दिवाली के पांच दिवसीय उत्सव की शुरुआत होती है। इस दिन, लोगों को अपने घरों को साफ साफ़ सुथरा करते है , इसलिए लोग धन और समृद्धि की देवी लक्ष्मी के स्वागत करने के लिए तयारी करते हैं, और शाम को  पूजा की जाती है।
धनतेरस का दिन एक शुभ दिन है और महंगा सामान खरीदने के लिए एक अच्छा दिन होता है, हालांकि यह उन लोगों के लिए दान करने का दिन है जिनकी कैपेसिटी है। छोटी मिट्टी के बर्तन यानि दीपक, जिन्हें दीया कहा जाता है, बुरे सायो को दूर भगाने के लिए जलाया जाता है।
नरका चतुर्दशी – Naraka Chaturdashi
हिंदू कथा के अनुसार, दूसरे दिन भगवान कृष्ण द्वारा राक्षस नरकासुर का वध किया गया था। भारत के कुछ क्षेत्रों में ये दिन वर्ष के अंत को चिह्नित करते हुए,  नए साल की शुरुआत  से पहले  घर की सफाई करते हैऔर नए कपडे पहनते है। साउथ इंडिया में लोग इस दिन को दीपावली  के रूप में मनाया जाता है।
दिवाली – Diwali
दिवाली तीसरे दिन कार्तिक में अमावस्या के दिन मनाया जाता है। भारत के अधिकांश हिस्सों में, यह त्योहार का सबसे महत्वपूर्ण दिन है और भारत के कई हिस्सों में ये दिन वर्ष का अंतिम दिन है।
इसी दिन, भगवान राम ने अपनी पत्नी सीता को राक्षस रावण से बचाया था और लंबे वनवास काटने के बाद घर लौट आए थे। भगवन राम के जीत का जश्न मनाने के लिए और लड़ाई के बाद अपने घर को रोशन करने के लिए मोमबत्तियाँ और दिये जलाई जाती हैं। 
इस दिन शाम को अंतरिक्ष से देखने पर लगता है जैसे पूरा देश एक रौशनी में ढल गयी है। 
गोवर्धन पूजा – Govardhan puja
गोवर्धन पूजा दिवाली के चौथे दिन मनाया जाता है। गोवर्धन पूजा को अन्नकूट के नाम से भी जाना जाता है, अन्नकूट शब्द का मतलब  है ‘भोजन का पहाड़’ इसदिन विक्रम संवत कैलेंडर में नए साल का पहला दिन भी होता है और इसे प्रतिपदा कहते है।   कहा जाता है की इस दिन भगवान कृष्ण ने स्थानीय ग्रामीणों को मूसलाधार बारिश से बचने के लिए गोवर्धन पहाड़ को अपनी छोटी ऊँगली पर उठा लिया था। इस दिन लोग भोजन की थाली को अच्छे से तैयार करके नए साल का जशन मानाने के लिए मंदिर  है , और भगवन श्री कृष्ण को  धन्यवाद देते हैं।
भाई दूज – Bhai Dooj
भाई दूज दिवाली त्योहार का पांचवा और आखरी दिन होता है। यह दिन भाई और बहन के बीच के रिश्ते का जश्न मनाया जाता है। इस दिन रक्षाबंधन की तरह बहन अपने भाई के कलाई पे धागा बांधती है, ताकि बहिन और भाई के रिश्ते में प्यार बना रहे। 
अब हम  जान चुके है की दिवाली क्यों मनाई जाती है , आईये अब जानते है दिवाली को कैसे मनाये। 

दिवाली या दीपावली कैसे मनाएं: How to celebrate diwali or deepawali in Hindi 2022

इस त्यौहार की तैयारी बहुत पहले से शुरू हो जाती है जब लोग अपने घरों औरऑफिस की सफाई करते हैं। फिर वे अपने घरो को फूलों, लैंप, लाइट और रंगोली से सजाते हैं। 

दीवाली क्या है और इसे कैसे मनाएं?: What is Diwali and how to celebrate it? ( Essay on Diwali in Hindi )

Essay on Diwali in Hindi
Essay on Diwali in Hindi
भारत में बांकी के सभी त्योहारों की तरह, दीवाली में भोजन भी एक आवश्यक भूमिका निभाता है। स्वादिष्ट मिठाइयों या मनोरम सेवइयों से पूरा घर सजा होता है। अच्छे अच्छे पकवान बनाये जाते है, रिश्तेदारों को आमंत्रित किया जाता है।
बहुत से लोग अपने मित्रों और परिवारों को आने वाले दिनों के लिए भाग्य और समृद्धि की कामना के लिए मिठाई भी उपहार में देते हैं।
धनतेरस से त्यौहार की शुरुआत होती है ,इस दिन कोई नया बर्तन या धातु की कोई चीज़ खरीदी जाती है क्योंकी इस दिन कोई नया सामान लेने के लये बहुत ही अच्छा दिन माना जाता है। 
अगले दो दिन- छोटी दिवाली और बड़ी दिवाली- त्योहार का लोग सबसे ज्यादा इंतजार करते हैं क्योकि लोग सबसे अधिक आनंद इसी दिन लेते हैं। शाम की शुरुआत पूजा करने और देवताओं को प्रार्थना करने के बाद शुरू होती है।
उसके बाद लोग दीया जलाते हैं और पटाखे फोड़ते हैं। पूरा माहौल एक जश्न में डूब जाता है। चौथे दिन, गोवर्धन पूजा की जाती है और ये पावन जगमगाने का त्योहार भाई दूज के साथ समाप्त होता है, जो रक्षा बंधन के समान है क्योंकि यह एक भाई और बहन के बीच के  प्यार को वढ़ाते है।
हालांकि दिवाली पर पटाखे फोड़ने की परंपरा है,  लेकिन हमें वायु प्रदूषण में वृद्धि को देखते हुए अब इसे करने से बचना चाहिए। हमें दिवाली पुराणी परंपरा के अनुशार दिए और मोमबती या लाइट के लिए आप जुगनू लाइट का प्रयोग कर  सकते है। और अपने कीमती समय को अपने परिवार के साथ बिता  सकते है। 

दिवाली मनाने का कारण: Reason to celebrate diwali / Diwali Story in Hindi

हम दिवाली क्यों मनाते हैं? यह हवा में सिर्फ पटाखे फोरने का दिन नहीं है जो आपको खुश करता है, या बस यह कि सर्दियों के आगमन से पहले आनंद लेने का एक अच्छा समय है।
1.लक्ष्मी जी का जन्म दिवस: Birthday of Lakshmi ji in Diwali
लक्ष्मी जी धन की देवी और भगवान विष्णु की पत्नी है , हिंदू धर्म के प्रमुख देवताओं में से एक हैं और वैष्णव धर्म परंपरा में सबसे ऊपर  हैं। हिन्दू के पौराणिक कथाओं के अनुसार, लक्ष्मी जी पहली बार समुद्र के मंथन (समुद्र-मंथन) के दौरान कार्तिक महीने की अमावस्या को अवतरित हुई थी। लक्ष्मी जी देवी में सबसे लोकप्रिय में से एक है। 
2. विष्णु ने लक्ष्मी को बचाया: Vishnu saved Lakshmi in Diwali
दीपावली के दिन ही वामन-अवतार भगवन विष्णु ने लिया था। लक्ष्मी जी को राजा बलि के कारागार से छुड़ाया। और यह दिवाली पर माँ लक्ष्मी की पूजा करने का एक और कारण है।
3. कृष्ण ने नरकासुर को मारा: Krishna killed Narakasura in Diwali
दिवाली से पहले के दिन, भगवान कृष्ण ने प्रागजोथिसपुरा के राक्षस राजा नरकासुर का वध इसी दिन किया था, जिन्होंने तीनों लोकों पर आक्रमण किया था, जिसे वहां के प्राणियों पर अत्याचार करने में बहुत आनंद आया था । श्री कृष्ण ने 16,000 महिलाओं को उसकी कैद से छुड़ाया था। 
4. पांडवों की वापसी: Return of pandavas in Diwali
सबसे महान महाकाव्य ‘महाभारत’ के अनुसार, यह ‘कार्तिक अमावस्या’ थी, जब पांचों पांडव (भाई युधिष्ठिर, भीम, अर्जुन, नकुल और सहदेव) अपने 12 वर्षों के निर्वासन के परिणामस्वरूप  वापस लौटे थे। इस दिन दिये जलाकर जश्न मनाया गया था। 
5. श्री राम की विजय: Victory of ram in Diwali
रामायण ’के अनुसार, यह कार्तिक की अमावस्या का दिन था जब भगवान राम, सीता जी , और लक्ष्मण ने  राक्षस रावण पर विजय प्राप्त करने के बाद अयोध्या वापसलौटे थे। अयोध्या के लोगों ने पूरे शहर को मिट्टी के दीयों से सजाया और रोशन किया, और दिवाली का त्योहार श्री राम की जीत के सम्मान में मनाया जाता है।
6. विक्रमादित्य का राज्याभिषेक: Accession of Vikramaditya in Diwali
विक्रमादित्य जो की हिंदू राजाओं में से एक थे उनका राज्याभिषेक दिवाली के दिन ही हुआ था   
विक्रमादित्य  को  लोग एक आदर्श राजा के रूप में जाना जाता है, जो अपनी उदारता, साहस और विद्वानों के लिए जाने जाते है। इस प्रकार, दीवाली को विक्रमादित्य का राज्याभिषेक के रूप में मनाया जाता है। 
इसे पढ़ने के लिए क्लीक करें
Best 5 Business Books
गूगल से पैसा कैसे कमाएं

7. दिवाली आर्य समाज के लिए विशेष दिन: Special day for Arya Samaj in Diwali
विद्वान महर्षि दयानंद, हिंदू धर्म के सबसे महान समाज सुधारकों और आर्य समाज स्थापक थे।  जिन्होंने आर्य समाज की स्थापना की थी। इसी दिन दिवाली का शुभ दिन था उन्होंने अपना निर्वाण प्राप्त किया। दयानंद का महान मिशन मानव जाति को भाइयों के रूप में एक दूसरे के साथ अच्छा व्यवहार करने के लिए था।
8. जैनों के लिए विशेष दिन: Special day for Jains in Diwali
महावीर तीर्थंकर जो जैन धर्म के संस्थापक थे इन्होने अपना निर्बाण दिवाली के दिन ही प्राप्त किया था। वो दिवाली का ही दिन था जब महावीर ने तपस्वी बनने के लिए अपना शाही जीवन का त्याग किया था, औरअपने परिवार को छोड़ दिया, उपवास और शारीरिक मृत्यु का उपक्रम किया। 43 वर्ष की आयु में, उन्होंने केवला ज्ञान को प्राप्त हुए।     
9. सिखों के लिए विशेष दिन: Special day for Sikhs in Diwali
दीवाली को  लाल-पत्र दिवस के रूप में तीसरे सिख गुरु अमर दास ने मनायाथा। स्वर्ण मंदिर की नींव 1577 में,अमृतसर में दीवाली पर रखी गई थी।1619 में, छठे सिख गुरु हरगोबिंद, जो मुगल सम्राट जहांगीर द्वारा कैद किए गए थे, उन्हें 52 राजाओं के साथ ग्वालियर किले में छोड़ा गया था।  
भारत के 10 सबसे बड़े मोटिवेशनल स्पीकर्स 
10. पोप की दिवाली भाषण: Pope Diwali Speech in Diwali
दिवाली का दिन ईसाई के लिए भी एक यादगार दिन है। 1999 में, पोप जॉन पॉल II ने एक भारतीय चर्च में एक विशेष यूचरिस्ट का आयोजन किया था , जहां वेदी को दीपावली के दीपकों से सजाया गया था, पोप के माथे पर ‘तिलक‘ लगा था और उनके भाषण को संदर्भों के साथ जोड़ा गया था। प्रकाश का त्योहार।
आशा करता हु आपको मेरा ये पोस्ट Essay on Diwali in Hindi | दिवाली पर निबंध 2022 पसंद आया होगा। कमेंट जरूर करे। 
इस पोस्ट में हमने जाना diwali kyon manai jati hai, diwali kyo manai jati hai, diwali kyu manaya jata hai, dipawali kyo manai jaati hai, dipawali kyo manate hai, diwali story, diwali festival essay, diwali history, diwali short history, diwali complete information, diwali 2022, dipawali 2022, 4 november 2022 Diwali, who celebrates diwali, why dussehra is celebrated in india, diwali festival, diwali festival 2022, diwali food, diwali kab hai, diwali 2022 dates, diwali and karwa chauth 2022, diwali and chhath puja date 2022 diwali and dussehra 2022, diwali bhai dooj 2022,diwali 2022, how to celebrate diwali.
आप दिवाली कैसे मानते है ? कमेंट में जरूर बताये। 
आप सभी को मेरी और मेरी टीम की तरफ से दिवाली की मुबारक़ बाद। अपना और अपने परिवार का ख्याल रखिये मिलते है अगले पोस्ट में। 
इसे भी पढ़े – 
Freedom Fighters Biography Books.
महात्मा गाँधी के अनमोल विचार.
भारत के 10 सबसे बड़े मोटिवेशनल स्पीकर्स.
Best World History Books of All Time in Hindi.
Good Worker (Pravasi Rojgar) Kya Hai?
Sonu Sood Biography
Hurun India Rich List
Hurun Global Rich List And Their Net Worth.
Robert T. Kiyosaki books summary in Hindi.
Best Bill Gates Quotes In Hindi
Famous APJ Abdul Kalam Quotes in Hindi
Ajaypal Singh Banga Mastercard CEO
Best Entrepreneur Movies List In
Top 11 Entrepreneurs Biography.
Shadi Anudan Yojana UP 
NREGA Job Card List

2 thoughts on “Essay on Diwali in Hindi | दिवाली पर निबंध”

Leave a Reply

%d bloggers like this: